चने के खेत में चुदाई – II

By   December 17, 2017
loading...

में अमर की chudai ki kahani उसकी पत्नी से सुनकर ही उत्साहित हो गयी पढ़िए free indian sex stories का नया भाग –

sex stories xxx के अन्य भाग –

भाग – 1

भाग – 2

भाग – 3


अब आप सोच सकते हो मेरी क्या हालत हुई होगी। मेरा मन बुरी तरह उस मोटे लंड के लिए कुनमुनाने लगा था। काश एक ही झटके में अमर अपना पूरा लंड मेरी चूत में उतार दे तो ‘झूले लाल’ की कसम यह जिंदगी धन्य हो जाए। मेरी छमिया ने तो इस ख्याल से ही एक बार फिर पानी छोड़ दिया।

“क्या उसने तुम्हारी कभी ग… गां… मेरा मतलब है…!” मैं कहते कहते थोड़ा रुक गई।

“हाँ जी ! कई बार मारते हैं।”

“क्या तुम्हें दर्द नहीं होता ?”

“पहले तो बहुत होता था पर अब बहुत मज़ा आता है।”

“वो कैसे ?”

“मैंने एक रास्ता निकाल लिया है।”

“क….क्या ?” मेरी झुंझलाहट बढ़ती जा रही थी। कम्मो बात को लंबा खींच रही थी।

“पता है वो कोई क्रीम या तेल नहीं लगता ? पहले चूत को जोर जोर से चूस कर उसका रस निकाल देता है फिर अपने सुपारे पर थूक लगा कर लंड अंदर ठोक देता है। पहले मुझे गांड मरवाने में बहुत दर्द होता था पर अब जिस दिन मेरा गांड मरवाने का मन होता है मैं सुबह सुबह एक कटोरी ताज़ा मक्खन गांड के अंदर डाल देती हूँ। हालांकि उसके बाद भी यह चुनमुनाती तो रहती है पर जब मैं अपने चूतडों को भींच कर चलती हूँ तो बहुत मज़ा आता है।”

अब आप सोच सकते हो मेरी क्या हालत हुई होगी। मेरा मन बुरी तरह उस मोटे लंड के लिए कुनमुनाने लगा था। काश एक ही झटके में अमर अपना पूरा लंड मेरी चूत में उतार दे तो ‘झूले लाल’ की कसम यह जिंदगी धन्य हो जाए। मेरी छमिया ने तो इस ख्याल से ही एक बार फिर पानी छोड़ दिया।

कम्मो ने खाना बहुत अच्छा बनाया था। चने के पत्ते वाली कढ़ी और देसी घी में पड़ी शक्कर के साथ बाजरे की रोटी खाने का मज़ा तो मैं आज तक नहीं भूली हूँ। कम्मो ने बताया कि कल वो दाल बाटी और गुड़ का चूरमा बना कर खिलाएगी।

शाम के 4 बज रहे थे। हम लोग वापस आने के लिए जीप में बैठ गए तो अमर उस झोपड़े की ओर चला गया जहां कम्मो बर्तन समेट रही थी। वो कोई 20-25 मिनट के बाद आया। उसके चेहरे की रंगत से लग रहा था कि वो जरूर कम्मो को रगड़ कर आया है। सच कहूँ तो मेरी तो झांटे ही जल गई।

मेरा मन चुदाई के लिए इतना बेचैन हो रहा था कि मैं चाह रही थी कि घर पहुँचते ही कमरा बंद करके घोड़ी बन जाऊं और रमेश मेरी कुलबुलाती चूत में अपना लंड डाल कर मुझे आधे घंटे तक तसल्ली से चोदे। पर हाय री किस्मत एक तो रमेश देर से आया और फिर रात में भी उसने कुछ नहीं किया। उसका लंड खड़ा ही नहीं हुआ। मैंने चूसा भी पर कुछ नहीं बना। वो तो पीठ मोड़ कर सो गया पर मैं तड़फती रह गई। अब मेरे पास बाथरूम में जाकर चूत में अंगुली करने के सिवा और क्या रास्ता बचा था !

loading...
chane ke khet chudai free indian sex stories

मेरी मस्त जवानी

आपको बता दूँ जिस कमरे में हम ठहरे थे उसका बाथरूम साथ लगे कमरे के बीच साझा था और उसका दरवाज़ा दोनों तरफ खुलता था। मैंने अपनी पनियाई चूत में कोई 15-20 मिनट अंगुली तो जरूर की होगी तब जाकर उसका थोड़ा सा रस निकला। अब मुझे साथ वाले कमरे से कुछ सीत्कारें सुनाई दी। मैंने बत्ती बंद करके की-होल से उस कमरे में झाँका। अंदर का नज़ारा देख कर मेरा रोम रोम झनझना उठा।

मंगला मादरजात नंगी हुई अपनी दोनों टांगें चौड़ी किये बेड पर चित्त लेती थी और उसने अपने नितंबों के नीचे एक मोटा तकिया लगा रखा था। अमर उसकी जाँघों के बीच पेट के बल लेटा हुआ मंगला की झांटों से लकदक चूत को जोर जोर से चाट रहा था जैसे वो झोटा उस भैंस की चूत को चाट रहा था। जैसे ही वो अपनी जीभ को नीचे से ऊपर लाता तो उसकी फांकें चौड़ी हो जाती और अंदर का गुलाबी रंग झलकने लगता। मंगला ने अमर का सर अपने हाथों में पकड़ रखा था और वो आँखें बंद किये जोर जोर से आह्ह…. उह्हह…. कर रही थी। मुझे अमर का लंड अभी दिखाई नहीं दिया था। अचानक अमर ने उसे कुछ इशारा किया तो मंगला झट से अपने घुटनों के बाल चौपाया हो गई और उसने अपने चूतड़ ऊपर कर दिए।

झूले लाल की कसम ! उसके नितंब तो मेरे नितंबों से भी भारी और गोल थे। अब अमर भी उठ कर उसके पीछे आ गया। अब मुझे उसके लंड के प्रथम दर्शन हुए। लगभग 8 इंच का काले रंग का लंड मेरी कलाई जितना मोटा लग रहा था और उसका सुपारा मशरूम की तरह गोल था।

अब मंगला ने कंधे झुका कर अपना सर तकिये पर रख लिया और अपने दोनों हाथ पीछे करके अपनी चूत की फांकों को चौड़ा कर दिया और अपनी जांघें थोड़ी और चौड़ी कर ली। चूत का चीरा 5 इंच का तो जरुर होगा। उसकी फांकें तो काली थी पर अंदर का रंग लाल तरबूज की गिरी जैसा था जो पूरा काम-रस से भरा था। अमर ने पहले तो उसके नितंबों पर 2-3 बार थपकी लगाई और फिर अपने एक हाथ पर थूक लगा कर अपने सुपारे पर चुपड़ दिया। फिर उसने अपना लंड मंगला की चूत के छेद पर रख दिया। अब अमर ने उसकी कमर पकड़ ली और उस झोटे की तरह एक हुंकार भरी और एक जोर का झटका लगाया। पूरा का पूरा लंड एक ही झटके में घप्प से मंगला की चूत के अंदर समां गया। मेरी तो आँखें फटी की फटी रह गई। मैं तो सोचती थी कि मंगला जोर से चिल्लाएगी पर वो तो मस्त हुई आह…याह्ह…करती रही।

मेरी साँसें तेज हो गई थी और दिल की धड़कने बेकाबू सी होने लगी थी। मेरी आँखों में जैसे लालिमा सी उतर आई थी। मुझे तो पता ही नहीं चला कब मेरे हाथ अपनी चूत की फांकों पर दुबारा पहुँच गए थे। मैंने फिर से उसमें अंगुली करनी चालू कर दी। दूसरी तरफ तो जैसे सुनामी ही आ गई थी। अमर जोर जोर से धक्के लगाने लगा था और मंगला की कामुक सीत्कारें पूरे कमरे में गूँजने लगी थी। बीच बीच में अमर उसके मोटे नितंबों पर थप्पड़ भी लगा रहा था। वो धीमी आवाज में गालियाँ भी निकाल रहा था और मंगला के नितंबों पर थप्पड़ भी लगा रहा था। जैसे ही वो उन कसे हुए नितंबों पर थप्पड़ लगाता नितंब थोड़ा सा हिलते और मंगला की सीत्कार फिर निकल जाती।

वो तो थकने का नाम ही नहीं ले रहे थे। दोनों ही किसी अखाड़े के पहलवानों की तरह जैसे एक दूसरे को हारने की कोशिश में ही लगे थे। जैसे ही अमर धक्का लगता मंगला भी अपने नितंब पीछे की ओर कर देती तो एक जोर की फच्च की आवाज आती। उन्हें कोई 10-12 मिनट तो हो ही गए होंगे। अमर अब कुछ धीमा हो गया था। वो धीरे धीरे अपना लण्ड बाहर निकालता और थोड़े अंतराल के बाद फिर एक जोर का धक्का लगता तो उसके साथ ही मंगला की चूत की गीली फांकें उसके लण्ड के साथ ही अंदर चली जाती।